10 जनवरी 2010

निठारी : कुछ खास बातें—-

21 दिसंबर 2006 - दीपिका उर्फ पायल के मोबाइल के आईएमईआई रन होने की जानकारी मिली। यही से इस प्रकरण के खुलासे की शुरुआत हुई।

29 दिसंबर 2006- सुबह करीब 9 बजे कोठी डी-5 के पीछे तलाशी शुरू। एक के बाद एक नर कंकाल मिलने से कुछ देर बाद ही मीडिया की सुर्खियां बन गई और इस प्रकरण की परत-दर-परत खुलती गई।

31 दिसबंर 2006- मुख्यमंत्री मायावती ने निठारी का दौरा किया। शासन ने पीडि़तों को 5-5 लाख रुपये मुआवजा देने की घोषणा की।

2 जनवरी 2007- कपड़ों के आधार पर 17 बच्चों की शिनाख्त।

3 जनवरी 2007- 3 पुलिस अफसर सस्पेंड। 6 सब इंस्पेक्टरों की बर्खास्तगी।

4 जनवरी 2007- नौकर सुरेंद्र कोहली और मालिक मोनिंदर सिंह पंधेर का नारको टेस्ट कराने के लिए गांधीनगर ले जाया गया।

5 जनवरी 2007- पीडि़त परिजनों की मांग पर राज्य सरकार ने सीबीआई जांच को हरी झंडी दी।

11 जनवरी 2007- सीबीआई ने निठारी कांड की जांच शुरू की और कोठी की तलाशी ली।

13 फरवरी 2009- गाजियाबाद सीबीआई कोर्ट ने दोनों आरोपियों को फांसी की सजा सुनाई।

2 टिप्‍पणियां:

बेनामी ने कहा…

sd

बेनामी ने कहा…

dsd